" /> Swami Vivekananda ke Anmol Vachan "स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार" - Jio Dil Se
Swami Vivekananda

Swami Vivekananda ke Anmol Vachan “स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार”

 

"Swami Vivekananda ke Anmol Vachan"

कभी मत सोचिये कि आत्‍मा के लिए कुछ असंभव है,
ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है,
तो वो यही है, ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्‍य निर्बल हैं.

kabhee mat sochiye ki aat‍ma ke lie kuchh asambhav hai,
aisa sochana sabase bada vidharm hai.
agar koee paap hai, 
to vo yahee hai, 
ye kahana ki tum nirbal ho ya an‍ya nirbal hain.

Swami Vivekananda ke Anmol Vachan

बच्‍चों पर निवेश करने की सबसे अच्‍छी खोज है,
अपना समाज और अच्‍छे संस्‍कार ध्‍यान रखें,
एक श्रेष्‍ठ बालक का निर्माण सौ विद्यालय को बनाने से भी बेहतर है.

bach‍chon par nivesh karane kee sabase ach‍chhee khoj hai,
apana samaaj aur ach‍chhe sans‍kaar dh‍yaan rakhen,
ek shresh‍th baalak ka nirmaan sau vidyaalay ko banaane se bhee behatar hai.
किसी की निंदा ना करें. 
अगर आप मदद के लिए हाथ बढ़ा सकते है, 
तो जरूर बढ़ाएं अगर नहीं बढ़ा सकते, 
तो अपने हाथ जोडिये अपने भाईयों को आशीर्वाद दीजिये, 
और उन्‍हें उनके मार्ग पर जाने दीजिये.

kisee kee ninda na karen. 
agar aap madad ke lie haath badha sakate hai, 
to jaroor badhaen agar nahin badha sakate, 
to apane haath jodiye apane bhaeeyon ko aasheervaad deejiye, 
aur un‍hen unake maarg par jaane deejiye.
किसी एक विचार को अपने जीवन का लक्ष्‍य बनाओ 
कुविचारों का त्‍याग कर केवल उसी विचार के बारे में सोचो.
आप पाओगे कि सफलता तुम्‍हारे कदम चूम रही है.

kisee ek vichaar ko apane jeevan ka laksh‍ya banao 
kuvichaaron ka t‍yaag kar keval usee vichaar ke baare mein socho.
aap paoge ki saphalata tum‍haare kadam choom rahee hai.
एक समय आता है, 
जब मनुष्‍य अनुभव करता है 
कि थोड़ी-सी मनुष्‍य की सेवा करना लाखों जप-ध्‍यान से कहीं बढ़कर है.

ek samay aata hai, 
jab manush‍ya anubhav karata hai 
ki thodee-see manush‍ya kee seva karana laakhon jap-dh‍yaan se kaheen badhakar hai.
अगर हम ईश्‍वर को अपने दिल में और हर जीवित चीज़ में नहीं देख सकते हैं तो,
हम ईश्‍वर को खोजने के लिए और कहाँ जहा सकते हैं?

agar ham eesh‍var ko apane dil mein aur har jeevit cheez mein nahin dekh sakate hain to,
ham eesh‍var ko khojane ke lie aur kahaan jaha sakate hain?

Swami Vivekananda ke Anmol Vachan

तुम अपनी अंत:स्‍थ आत्‍मा को छोड़ किसी और के सामने सिर मत झुकाओ. 
जब तक तुम यह अनुभव नहीं करते कि तुम स्‍वयं देव हो, 
तब तक तुम मुक्‍त नहीं हो सकते.

tum apanee ant:s‍th aat‍ma ko chhod kisee aur ke saamane sir mat jhukao. 
jab tak tum yah anubhav nahin karate ki tum s‍vayan dev ho, 
tab tak tum muk‍ta nahin ho sakate.
बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है.
baaharee svabhaav keval andaroonee svabhaav ka bada roop hai.
वेदान्त कोई पाप नहीं जानता, 
वो केवल त्रुटी जानता है. 
और वेदान्त कहता है कि सबसे बड़ी त्रुटी यह कहना है कि तुम कमजोर हो, 
तुम पापी हो, एक तुच्छ प्राणी हो, 
और तुम्हारे पास कोई शक्ति नहीं है और तुम ये-वो नहीं कर सकते.

vedaant koee paap nahin jaanata, 
vo keval trutee jaanata hai. 
aur vedaant kahata hai ki sabase badee trutee yah kahana hai ki tum kamajor ho, 
tum paapee ho, ek tuchchh praanee ho, aur tumhaare paas koee shakti nahin hai aur tum ye-vo nahin kar sakate.

Swami Vivekananda ke Anmol Vachan

जब तक लाखों लोग भूखे और अज्ञानी हैं, 
तब तक मैं उस प्रत्‍येक व्‍यक्ति को गद्दार मानता हूँ 
जो उनके बल पर शि‍क्षित हुआ और अब वह उसकी ओर ध्‍यान नहीं देता..

jab tak laakhon log bhookhe aur agyaanee hain, 
tab tak main us prat‍yek v‍yakti ko gaddaar maanata hoon 
jo unake bal par shi‍kshit hua aur ab vah usakee or dh‍yaan nahin deta..

Read More

chanakya niti

Swami Vivekananda Quotes In Hindi
चाणक्य के अनुसार खा पर रहना चाहियें || चाणक्य नीति chanakya niti
चाणक्य के अनमोल विचार Anmol Vachan – Chanakya Niti

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please Disable Adblock Because It's important me in our website maintenance