" /> दूसरे के दोष ही दिखाई देना || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 107 - Jio Dil Se
Chaanaky Nitichanakya niti

दूसरे के दोष ही दिखाई देना || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 107

दूसरे के दोष ही दिखाई देना || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 107

Chaanaky Ke Anamol Vichaar

531 : - मुर्ख व्यक्ति को अपने दोष दिखाई नहीं देते, उसे दूसरे के दोष ही दिखाई देते हैं।
531 : - murkh vyakti ko apane dosh dikhaee nahin dete, use doosare ke dosh hee dikhaee dete hain.
532 : - स्वार्थ पूर्ति हेतु दी जाने वाली भेंट ही उनकी सेवा है।
532 : - svaarth poorti hetu dee jaane vaalee bhent hee unakee seva hai.
533 : - बहुत दिनों से परिचित व्यक्ति की अत्यधिक सेवा शंका उत्पन्न करती है।
533 : - bahut dinon se parichit vyakti kee atyadhik seva shanka utpann karatee hai.
534 : - अति आसक्ति दोष उत्पन्न करती है।
534 : - ati aasakti dosh utpann karatee hai.
535 : - शांत व्यक्ति सबको अपना बना लेता है।
535 : - shaant vyakti sabako apana bana leta hai.
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please Disable Adblock Because It's important me in our website maintenance