Chaanaky Nitichanakya niti

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 15

71 : - अप्रिय बोलना, दुष्टों की संगति, क्रोध करना, स्वजन से बैर ये सब नरकवासियों के लक्षण हैं.
71 : - apriy bolana, dushton kee sangati, krodh karana, svajan se bair ye sab narakavaasiyon ke lakshan hain. 
72 : - प्रजा के पाप का फल राजा, राजा के पाप का फल राजपुरोहित, शिष्य के पाप का फल गुरु और स्त्री के पाप का फल पति को भी भोगना पड़ता है.
72 : - praja ke paap ka phal raaja, raaja ke paap ka phal raajapurohit, shishy ke paap ka phal guru aur stree ke paap ka phal pati ko bhee bhogana padata hai. 
73 : - हाथी को अंकुश से, सींग वाले प्राणियों को लाठी से, घोड़े को चाबुक से और दुर्जन को तलवार से वश में करना चाहिए.
73 : - haathee ko ankush se, seeng vaale praaniyon ko laathee se, ghode ko chaabuk se aur durjan ko talavaar se vash mein karana chaahie. 
74 : - पत्नी, संतान और साधुजन की संगति में दीन, हीन और दु:खीजन, को थोड़ा आराम मिल सकता है. लेकिन ये अंतिम पड़ाव नहीं है –निर्लिप्त जीवन यापन से ही हर तरह के कष्टों से मुक्ति संभव है.
74 : - patnee, santaan aur saadhujan kee sangati mein deen, heen aur du:kheejan, ko thoda aaraam mil sakata hai. lekin ye antim padaav nahin hai –nirlipt jeevan yaapan se hee har tarah ke kashton se mukti sambhav hai. 
75 : - अधिक पैदल चलने से आदमी बूढ़ा हो जाता है, घोड़ों को बांधकर रखा जाए तो वे बूढ़े हो जाते हैं, मैथुन के अभाव मैं स्त्री बुढ़िया हो जाती है और धूप में पड़े-पड़े वस्त्र जर्जर हो बुढ़ापे को प्राप्त होते हैं.

75 : - adhik paidal chalane se aadamee boodha ho jaata hai, ghodon ko baandhakar rakha jae to ve boodhe ho jaate hain, maithun ke abhaav main stree budhiya ho jaatee hai aur dhoop mein pade-pade vastr jarjar ho budhaape ko praapt hote hain.

Chanakya niti चाणक्य नीति

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please Disable Adblock Because It's important me in our website maintenance