पराई स्त्री से सम्भोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 116

पराई स्त्री से सम्भोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 116
576 : - एक ही गुरुकुल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का निकट संपर्क ब्रह्मचर्य को नष्ट कर सकता है।
576 : - ek hee gurukul mein padhane vaale chhaatr-chhaatraon ka nikat sampark brahmachary ko nasht kar sakata hai.
577 : - पुत्र प्राप्ति के लिए ही स्त्री का वरण किया जाता है।
577 : - putr praapti ke lie hee stree ka varan kiya jaata hai.
578 : - पराए खेत में बीज न डाले। अर्थात पराई स्त्री से सम्भोग (सेक्स) न करें।
578 : - parae khet mein beej na daale. arthaat paraee stree se sambhog (seks) na karen.
579 : - अपनी दासी को ग्रहण करना स्वयं को दास बना लेना है।
579 : - apanee daasee ko grahan karana svayan ko daas bana lena hai.
580 : - विनाश काल आने पर दवा की बात कोई नहीं सुनता।
580 : - vinaash kaal aane par dava kee baat koee nahin sunata.

Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

Chanakya Neeti In Hindi 356 : - दूसरे के धन पर भेदभाव रखना स्वार्थ है। 356 : - doosare ke dhan par bhedabhaav rakhana svaarth hai. 357 : - न्याय

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

chanakya niti for success in life in hindi 451 : - धनवान व्यक्ति का सारा संसार सम्मान करता है। 451 : - dhanavaan vyakti ka saara sansaar sammaan karata hai.

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

706 : - विश्वासघाती की कहीं भी मुक्ति नहीं होती। 706 : - vishvaasaghaatee kee kaheen bhee mukti nahin hotee. 707 : - दैव (भाग्य) के अधीन किसी बात पर