धर्म के समान क्या || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

धर्म के समान क्या  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

chanakya niti for success in life in hindi

431 : - धर्म के समान कोई मित्र नहीं है।
431 : - dharm ke samaan koee mitr nahin hai.
432 : - धर्म ही लोक को धारण करता है।
432 : - dharm hee lok ko dhaaran karata hai.
433 : - प्रेत भी धर्म-अधर्म का पालन करते है।
433 : - pret bhee dharm-adharm ka paalan karate hai.
434 : - दया धरम की जन्मभूमि है।
434 : - daya dharam kee janmabhoomi hai.
435 : - धर्म का आधार ही सत्य और दान है।
435 : - dharm ka aadhaar hee saty aur daan hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 5

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 5

chanakya video 21 :- अतिथि का सत्कार न करने वाला, थके-हारे को आश्रय न देने वाला और दूसरे का हिस्सा हड़प करने वाला, ये सब लोग महापापी होते हैं, 21

जगाने आती हैं

जगाने आती हैं

कठिनाइयाँ मनुष्य के पुरुषार्थ को जगाने आती हैं…kathinaiyaan manushy ke purushaarth ko jagaane aatee hai…Difficulties come to awaken man's happiness …

बड़ा रूप है। | Swami Vivekananda |

बड़ा रूप है। | swami vivekananda quotes hindi |

बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है। External nature is only a great form of inner nature. baaharee svabhaav keval andaroonee svabhaav ka bada roop hai. Also, Read