चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 6

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 6

chanakya video

26 : - कई तरह कि नेत्र हीनता होती है. कुछ जन्म से अंधे होते है. कुछ आँखें होते हुए भी अंधे है. काम-वासना में हुए अंधे को कुछ नहीं सूझता है, मदांध को भी कुछ नहीं दिखाई पड़ता. लोभी भी लोभ के वशीभूत नेत्र हीन हो जाता है . इस तरह के लोग आँख वाले अंधे कहलाते है.

26 : - kaee tarah ki netr heenata hotee hai. kuchh janm se andhe hote hai. kuchh aankhen hote hue bhee andhe hai. kaam-vaasana mein hue andhe ko kuchh nahin soojhata hai, madaandh ko bhee kuchh nahin dikhaee padata. lobhee bhee lobh ke vasheebhoot netr heen ho jaata hai . is tarah ke log aankh vaale andhe kahalaate hai. 
27 : - विदेश में विद्या मित्र के समान होती है, औषधि रोगियों कि मित्र होती है, पत्नी घर में मित्र होती है और मृतक का मित्र होता है- धर्म .

27 : - videsh mein vidya mitr ke samaan hotee hai, aushadhi rogiyon ki mitr hotee hai, patnee ghar mein mitr hotee hai aur mrtak ka mitr hota hai- dharm . 
28 : - प्रेम कि शिक्षा लेनी है तो भंवरे से लो. कठोर लकड़ी को छेद देने वाला भँवरा, कमल में स्वयं को बंद कर लेता है तो सिर्फ इसलिए कि उसे कमल से प्रेम होता है. यदि वह कमल को छेदकर बहार आ जायेगा तो कमल के प्रति उसका प्रेम रहा ही कहाँ?

28 : - prem ki shiksha lenee hai to bhanvare se lo. kathor lakadee ko chhed dene vaala bhanvara, kamal mein svayan ko band kar leta hai to sirph isalie ki use kamal se prem hota hai. yadi vah kamal ko chhedakar bahaar aa jaayega to kamal ke prati usaka prem raha hee kahaan?
29 : - ज्ञान से बढ़कर कोई दूसरा गुरु नहीं, काम-वासना के समान कोई दूसरा रोग नहीं, क्रोध के सामान कोई आग नहीं और अज्ञानता के जैसा शत्रु कोई नहीं.

 29 : - gyaan se badhakar koee doosara guru nahin, kaam-vaasana ke samaan koee doosara rog nahin, krodh ke saamaan koee aag nahin aur agyaanata ke jaisa shatru koee nahin.

 

30 : - मूर्ख को उपदेश शत्रु के समान लगता है. लोभियों अथवा कंजूसो को याचक (भिखारी) शत्रु सा लगता है. व्यभिचारिणी स्त्री को उसका पति शत्रु लगता है, तो चोरों को चंद्रमा शत्रु लगता है.

30 : - moorkh ko upadesh shatru ke samaan lagata hai. lobhiyon athava kanjooso ko yaachak (bhikhaaree) shatru sa lagata hai. vyabhichaarinee stree ko usaka pati shatru lagata hai, to choron ko chandrama shatru lagata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 141

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 141

701 : - बुद्धिहीन व्यक्ति निकृष्ट साहित्य के प्रति मोहित होते है। 701 : - buddhiheen vyakti nikrsht saahity ke prati mohit hote hai. 702 : - सत्संग से स्वर्ग

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

306 : - परीक्षा करने से लक्ष्मी स्थिर रहती है। 307 : - सभी प्रकार की सम्पति का सभी उपायों से संग्रह करना चाहिए। 308 : - बिना विचार कार्ये

चाणक्य के अनुसार कोन उचित (अनुरूप) है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 105

चाणक्य के अनुसार कोन उचित (अनुरूप) है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 105

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 521 : - पात्र के अनुरूप दान दें। 521 : - paatr ke anuroop daan den. 522 : - उम्र के अनुरूप ही वेश धारण करें।