चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

286 : - निर्बल राजा की आज्ञा की भी अवहेलना कदापि नहीं करनी चाहिए।
286 : - nirbal raaja kee aagya kee bhee avahelana kadaapi nahin karanee chaahie.
287 : - अग्नि में दुर्बलता नहीं होती।
287 : - agni mein durbalata nahin hotee.
288 : - दंड का निर्धारण विवेकसम्मत होना चाहिए।
288 : - dand ka nirdhaaran vivekasammat hona chaahie.
289 : - दंडनीति से राजा की प्रवति अर्थात स्वभाव का पता चलता है।
289 : - dandaneeti se raaja kee pravati arthaat svabhaav ka pata chalata hai.
290 : - स्वभाव का मूल अर्थ लाभ होता है।
290 : - svabhaav ka mool arth laabh hota hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

अपमान का भय नहीं होता || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 92

अपमान का भय नहीं होता || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 92

chanakya niti for success in life in hindi 456 : - उपार्जित धन का त्याग ही उसकी रक्षा है। अर्थात उपार्जित धन को लोक हित के कार्यों में खर्च करके

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 22

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 22

106 : - विषहीन सर्प को भी अपनी रक्षा के लिए फन फैलाना पड़ता है. (इसलिए शक्तिशाली न होते हुए भी शक्तिशाली होने का दिखावा करना आपकी रक्षा करता है.)

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 38

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 38

186 : - अर्थ, धर्म और कर्म का आधार है। 187 : - शत्रु दण्डनीति के ही योग्य है। 188 : - कठोर वाणी अग्निदाह से भी अधिक तीव्र दुःख पहुंचाती है।