चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52
256 : - आवाप अर्थात दूसरे राष्ट्र से संबंध नीति का परिपालन मंत्रिमंडल का कार्य है।
257 : - दुर्बल के साथ संधि न करे।
258 : - ठंडा लोहा लोहे से नहीं जुड़ता।
259 : - संधि करने वालो में तेज़ ही संधि का हेतु होता है।
260 : - शत्रु के प्रयत्नों की समीक्षा करते रहना चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 36

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 36

176 : - सोने के साथ मिलकर चांदी भी सोने जैसी दिखाई पड़ती है अर्थात सत्संग का प्रभाव मनुष्य पर अवश्य पड़ता है। 177 : - ढेकुली नीचे सिर झुकाकर

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 124

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 124

chanakya niti for motivation 616 : - याचकों का अपमान अथवा उपेक्षा नहीं करनी चाहिए। 616 : - yaachakon ka apamaan athava upeksha nahin karanee chaahie. 617 : - मधुर

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

152 : - वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते है। 153 : - शत्रु की दुर्बलता