चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41
201 : - आग में आग नहीं डालनी चाहिए। अर्थात क्रोधी व्यक्ति को अधिक क्रोध नहीं दिलाना चाहिए।

202 : - मनुष्य की वाणी ही विष और अमृत की खान है।

203 : - दुष्ट की मित्रता से शत्रु की मित्रता अच्छी होती है।

204 : - दूध के लिए हथिनी पालने की जरुरत नहीं होती। अर्थात आवश्कयता के अनुसार साधन जुटाने चाहिए।

205 : - कठिन समय के लिए धन की रक्षा करनी चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

नीच व्यक्ति को ???? देना ठीक नहीं। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 81

नीच व्यक्ति को ???? देना ठीक नहीं। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 81

Chanakya Neeti In Hindi 401 : - नीच व्यक्ति को उपदेश देना ठीक नहीं। 401 : - neech vyakti ko upadesh dena theek nahin. 402 : - नीच लोगों पर

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

146 : - चाणक्य कहते हैं कि जिस तरह वेश्या धन के समाप्त होने पर पुरुष से मुँह मोड़ लेती है। उसी तरह जब राजा शक्तिहीन हो जाता है तो

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video 56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां के लोग दान नहीं करना जानते, जहाँ अच्छे काम करने में कोई चतुर न हो,