चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 23

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 23
111 : - दुष्ट और सांप में सांप अच्छा है क्योंकि सांप तो एक बार डसता है किन्तु दुष्ट तो पग-पग पर डसता रहता है .
111 : - dusht aur saamp mein saamp achchha hai kyonki saamp to ek baar dasata hai kintu dusht to pag-pag par dasata rahata hai . 
112 : - दुष्ट व्यक्ति दूसरे की उन्नति देखकर जलता है .वह स्वयं उन्नति नहीं कर सकता, इसलिए निंदा करने लगता है.
112 : - dusht vyakti doosare kee unnati dekhakar jalata hai .vah svayan unnati nahin kar sakata, isalie ninda karane lagata hai. 
113 : - हाथी से एक हजार हाथ दूर ,घोड़े से सौ हाथ दूर और सींग वाले जानवरों से दस हाथ दूर रहना चाहिए लेकिन दुष्टों से बचाव के लिए वह स्थान ही छोड़ देना चाहिए, जिसके पास दुष्ट रह रहा है.
113 : - haathee se ek hajaar haath door ,ghode se sau haath door aur seeng vaale jaanavaron se das haath door rahana chaahie lekin dushton se bachaav ke lie vah sthaan hee chhod dena chaahie, jisake paas dusht rah raha hai. 
114 : - दुष्टों और काँटों का दो ही प्रकार का उपचार है- जूतों से कुचल देना या दूर से ही उन्हें देखकर मार्ग बदल लेना .
114 : - dushton aur kaanton ka do hee prakaar ka upachaar hai- jooton se kuchal dena ya door se hee unhen dekhakar maarg badal lena . 
115 : - दुष्टों का साथ छोड़ दो, सज्जनों का साथ करो, रात हो या दिन अच्छे काम करो तथा सदा ईश्वर को याद करो. 
115 : - dushton ka saath chhod do, sajjanon ka saath karo, raat ho ya din achchhe kaam karo tatha sada eeshvar ko yaad karo.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

586 : - सज्जन थोड़े-से उपकार के बदले बड़ा उपकार करने की इच्छा से सोता भी नहीं। 586 : - sajjan thode-se upakaar ke badale bada upakaar karane kee ichchha

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 4

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 4

chanakya video 16 : - समझदार वही है जो फूँक-फूँक कर कदम रखे, पानी को छानकर पिए, शास्त्रानुसार वाक्य बोले और सोच-विचार कर कर्म करे. इस तरह किए गए कार्य

धन का नाश  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

धन का नाश || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

chanakya niti for success in life in hindi 466 : - दूसरे का धन किंचिद् भी नहीं चुराना चाहिए। 466 : - doosare ka dhan kinchid bhee nahin churaana chaahie.