चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 16

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 16
76 :- बिना मंत्री का राजा, नदी किनारे के वृक्ष और दूसरों के घर जाकर रहने वाली स्त्री -ये सभी शीघ्र नष्ट हो जाते हैं.

76 :- bina mantree ka raaja, nadee kinaare ke vrksh aur doosaron ke ghar jaakar rahane vaalee stree -ye sabhee sheeghr nasht ho jaate hain. 
77 :- शास्त्रों में पाँच माताओं का वर्णन है- राजा कि माता, गुरु माता, स्वयं कि माता. पत्नी कि माता, मित्र कि पत्नी. इन सभी का समान रूप से आदर करना चाहिए. इन पर कुदृष्टि रखने वाला महाचांडाल होता है.

77 :- shaastron mein paanch maataon ka varnan hai- raaja ki maata, guru maata, svayan ki maata. patnee ki maata, mitr ki patnee. in sabhee ka samaan roop se aadar karana chaahie. in par kudrshti rakhane vaala mahaachaandaal hota hai. 
78 :- कन्यादान एक बार होता है, राजाज्ञा एक बार होती है, विद्वान एक ही बार बोलता है. ये कुछ बाते केवल एक ही बार होती है. इनकी पुनरावृत्ति संभव नहीं है.

78 :- kanyaadaan ek baar hota hai, raajaagya ek baar hotee hai, vidvaan ek hee baar bolata hai. ye kuchh baate keval ek hee baar hotee hai. inakee punaraavrtti sambhav nahin hai. 
79 :- ताम्बे का बर्तन अम्ल से, कांस्य का पात्र भस्म से, नदी बहने से और स्त्री रजस्वला होने से शुद्ध होती है.

79 :- taambe ka bartan aml se, kaansy ka paatr bhasm se, nadee bahane se aur stree rajasvala hone se shuddh hotee hai. 
80 :- जिस प्रकार घिसने, तापने, काटने और पीटने से सोने का परीक्षण होता है. उसी प्रकार त्याग, शील, गुण, एवं कर्मों से पुरुष कि परीक्षा होती है.

80 :- jis prakaar ghisane, taapane, kaatane aur peetane se sone ka pareekshan hota hai. usee prakaar tyaag, sheel, gun, evan karmon se purush ki pareeksha hotee hai.

Chan

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

akya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

271 : - ईर्ष्या करने वाले दो समान व्यक्तियों में विरोध पैदा कर देना चाहिए। 272 : - चतुरंगणी सेना (हाथी, घोड़े, रथ और पैदल) होने पर भी इन्द्रियों के

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 134

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 134

666 : - स्वर्ग की प्राप्ति शाश्वत अर्थात सनातन नहीं होती। 666 : - svarg kee praapti shaashvat arthaat sanaatan nahin hotee. 667 : - जब तक पुण्य फलों का

कभी इन से शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 113

कभी इन से शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 113

chanakya niti for success in life 561 : - राजकुल में सदैव आते-जाते रहना चाहिए। 561 : - raajakul mein sadaiv aate-jaate rahana chaahie. 562 : - राजपुरुषों से संबंध