चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 14

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 14

chanakya video

66 : - जिस प्रकार अकेला चंद्रमा रात कि शोभा बढ़ा देता है, ठीक उसी प्रकार एक अकेला विद्वान पुत्र कुल को निहाल कर देता है.
66 : - jis prakaar akela chandrama raat ki shobha badha deta hai, theek usee prakaar ek akela vidvaan putr kul ko nihaal kar deta hai. 
67 : - उस गाय से क्या लाभ जो न दूध देती है और न ही गाभिन होती है . उसी प्रकार उस पुत्र के जन्म से क्या लाभ , जो न विद्वान हो और न ही ईश्वर का भक्त हो.
67 : - us gaay se kya laabh jo na doodh detee hai aur na hee gaabhin hotee hai . usee prakaar us putr ke janm se kya laabh , jo na vidvaan ho aur na hee eeshvar ka bhakt ho. 
68 : - धन से धर्म की, योग से विद्या की, मृदुता से राजा कि तथा अच्छी स्त्री से घर कि रक्षा होती है.
68 : - dhan se dharm kee, yog se vidya kee, mrduta se raaja ki tatha achchhee stree se ghar ki raksha hotee hai. 
69 : - जिन घरों में विद्वानों, ब्राह्मणों का आदर नहीं होता, वेदों-शास्त्रों आदि का पाठ-पठन अथवा कथा नहीं होती तथा यज्ञ नहीं किए जाते, ऐसे घरों को श्मशान कि तरह समझना चाहिए.
69 : - jin gharon mein vidvaanon, braahmanon ka aadar nahin hota, vedon-shaastron aadi ka paath-pathan athava katha nahin hotee tatha yagy nahin kie jaate, aise gharon ko shmashaan ki tarah samajhana chaahie.
70 : - कट जाने पर भी चन्दन अपनी सुगंध नहीं त्यागता, बूढ़ा हो जाने पर भी हाथी अपनी लीलाओं को नहीं छोड़ता. इसी प्रकार गरीब होने पर भी कुलीन अपने शील गुणों को नहीं छोड़ता.

 70 : - kat jaane par bhee chandan apanee sugandh nahin tyaagata, boodha ho jaane par bhee haathee apanee leelaon ko nahin chhodata. isee prakaar gareeb hone par bhee kuleen apane sheel gunon ko nahin chhodata.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

661 : - इन्द्रियों को वश में करना ही तप का सार है। 661 : - indriyon ko vash mein karana hee tap ka saar hai. 662 : - स्त्री

उपकार का बदला चुकाने || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 117

उपकार का बदला चुकाने || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 117

581 : - देहधारी को सुख-दुःख की कोई कमी नहीं रहती। 581 : - dehadhaaree ko sukh-duhkh kee koee kamee nahin rahatee. 582 : - गाय के पीछे चलते बछड़े

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video 56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां के लोग दान नहीं करना जानते, जहाँ अच्छे काम करने में कोई चतुर न हो,