चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60
296 : - कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन जाता है।
297 : - अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।
298 : - कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है।
299 : - कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।
300 : - भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुखदायी हो जाता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे || चाणक्य नीति chanakya niti || 66

उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे || चाणक्य नीति chanakya niti || 66

chanakya niti for success in life 326 : - एक उत्कृष्ट बात जो शेर से

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

711 : - असहाय पथिक बनकर मार्ग में न जाएं। 711 : - asahaay pathik

पराई स्त्री से सम्भोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 116

पराई स्त्री से सम्भोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 116

576 : - एक ही गुरुकुल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का निकट संपर्क ब्रह्मचर्य को

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

276 : - कामी पुरुष कोई कार्य नहीं कर सकता। 276 : - kaamee purush

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

chanakya niti for success in life 571 : - गुणी पुत्र माता-पिता की दुर्गति नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 145

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 145

721 : - बुद्धिमानों के शत्रु नहीं होते। 721 : - buddhimaanon ke shatru nahin