चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60
296 : - कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन जाता है।
297 : - अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।
298 : - कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है।
299 : - कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।
300 : - भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुखदायी हो जाता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 3

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 3

chanakya video 11 : - एक गुण सैकड़ों अवगुणों को छिपा लेता है. जिस प्रकार

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

661 : - इन्द्रियों को वश में करना ही तप का सार है। 661 :

आलसी व्यक्ति के बारे में क्या कहा गया है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 101

आलसी व्यक्ति के बारे में क्या कहा गया है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 101

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 501 : - मर्यादा का कभी उल्लंघन न करें। 501 :

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग  95

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 95

471 : - नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है। 471 :

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

446 : - स्वजनों की सीमा का अतिक्रमण न करें। 446 : - svajanon kee

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

681 : - सज्जन दुर्जनों में विचरण नही करते। 681 : - sajjan durjanon mein