चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60
296 : - कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन जाता है।
297 : - अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।
298 : - कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है।
299 : - कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।
300 : - भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुखदायी हो जाता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

736 : - कूट साक्षी नहीं होना चाहिए। 736 : - koot saakshee nahin hona

ज्ञानियों में भी दोष  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi 371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 11

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 11

chanakya video 51 : - किसी से अपना काम निकालना हो तो मधुर वचन बोलें.

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

446 : - स्वजनों की सीमा का अतिक्रमण न करें। 446 : - svajanon kee

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

586 : - सज्जन थोड़े-से उपकार के बदले बड़ा उपकार करने की इच्छा से सोता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 29

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 29

141 : - वे माता-पिता अपने बच्चों के लिए शत्रु के समान हैं, जिन्होंने बच्चों