चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60
296 : - कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन जाता है।
297 : - अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।
298 : - कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है।
299 : - कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।
300 : - भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुखदायी हो जाता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi
Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

Chanakya Neeti In Hindi 421 : - अजीर्ण की स्थिति में भोजन दुःख पहुंचाता है।

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 146

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 146

726 : - क्षमा करने वाला अपने सारे काम आसानी से कर लेता है। 726

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

276 : - कामी पुरुष कोई कार्य नहीं कर सकता। 276 : - kaamee purush

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 10

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 10

chanakya video 46 : - विद्वानों एवं साधुजन को स्त्री प्रपंच में नहीं फंसना चाहिए,

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

181 : - दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है। 182 : - किसी भी

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 516 : - अपराध के अनुरूप ही दंड दें। 516 :