चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 59

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 59
291 : - अर्थ कार्य का आधार है।
291 : - arth kaary ka aadhaar hai.
292 : - धन होने पर अल्प प्रयत्न करने से कार्य पूर्ण हो जाते है।
292 : - dhan hone par alp prayatn karane se kaary poorn ho jaate hai.
293 : - उपाय से सभी कार्य पूर्ण हो जाते है। कोई कार्य कठिन नहीं रहता।
293 : - upaay se sabhee kaary poorn ho jaate hai. koee kaary kathin nahin rahata.
294 : - बिना उपाय के किए गए कार्य प्रयत्न करने पर भी बचाए नहीं जा सकते, नष्ट हो जाते है।
294 : - bina upaay ke kie gae kaary prayatn karane par bhee bachae nahin ja sakate, nasht ho jaate hai.
295 : - कार्य करने वाले के लिए उपाय सहायक होता है।
295 : - kaary karane vaale ke lie upaay sahaayak hota hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 40

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 40

196 : - जिसकी आत्मा संयमित होती है, वही आत्मविजयी होता है। 197 : -

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 29

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 29

141 : - वे माता-पिता अपने बच्चों के लिए शत्रु के समान हैं, जिन्होंने बच्चों

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

181 : - दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है। 182 : - किसी भी

सच्चे लोगो के लिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 71

सच्चे लोगो के लिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 71

Chanakya Neeti In Hindi 351 : - मुर्ख लोगों का क्रोध उन्हीं का नाश करता

धर्म के समान क्या  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

धर्म के समान क्या || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

chanakya niti for success in life in hindi 431 : - धर्म के समान कोई

दूध को भी शराब ही समझा जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 83

दूध को भी शराब ही समझा जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 83

Chanakya Neeti In Hindi 411 : - विवेकहीन व्यक्ति महान ऐश्वर्य पाने के बाद भी