चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55
281 : - दण्डनीति के प्रभावी न होने से मंत्रीगण भी बेलगाम होकर अप्रभावी हो जाते है।
281 : - dandaneeti ke prabhaavee na hone se mantreegan bhee belagaam hokar aprabhaavee ho jaate hai.
282 : - दंड का भय न होने से लोग अकार्य करने लगते है।
282 : - dand ka bhay na hone se log akaary karane lagate hai.
283 : - दण्डनीति से आत्मरक्षा की जा सकती है।
283 : - dandaneeti se aatmaraksha kee ja sakatee hai.
284 : - आत्मरक्षा से सबकी रक्षा होती है।
284 : - aatmaraksha se sabakee raksha hotee hai.
285 : - आत्मसम्मान के हनन से विकास का विनाश हो जाता है।
285 : - aatmasammaan ke hanan se vikaas ka vinaash ho jaata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya Quotes in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 2

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 2

6 :- बिना सत्य के सारा संसार व्यर्थ है. संसार में सब कुछ सत्य पर

कभी विश्वास न करें  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 80

कभी विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 80

Chanakya Neeti In Hindi 396 : - हाथ में आए शत्रु पर कभी विश्वास न

पाप कर्म करने वाले को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 77

पाप कर्म करने वाले को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 77

Chanakya Neeti In Hindi 381 : - मछेरा जल में प्रवेश करके ही कुछ पाता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

286 : - निर्बल राजा की आज्ञा की भी अवहेलना कदापि नहीं करनी चाहिए। 286

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

731 : - तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है। 731 : - tattvon

ज्ञानियों में भी दोष  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi 371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं