चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

276 : - कामी पुरुष कोई कार्य नहीं कर सकता।
276 : - kaamee purush koee kaary nahin kar sakata.
277 : - पूर्वाग्रह से ग्रसित दंड देना लोकनिंदा का कारण बनता है।
277 : - poorvaagrah se grasit dand dena lokaninda ka kaaran banata hai.
278 : - धन का लालची श्रीविहीन हो जाता है।
278 : - dhan ka laalachee shreeviheen ho jaata hai.
279 : - दण्डनीति के उचित प्रयोग से ही प्रजा की रक्षा संभव है।
279 : - dandaneeti ke uchit prayog se hee praja kee raksha sambhav hai.
280 : - दंड से सम्पदा का आयोजन होता है।
280 : - dand se sampada ka aayojan hota hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 138

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 138

686 : - आशा के साथ धैर्य नहीं होता। 686 : - aasha ke saath

चाणक्य के अनुसार खा पर रहना चाहियें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 111

चाणक्य के अनुसार खा पर रहना चाहियें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 111

chanakya niti for success in life 551 : - सभी व्यक्तियों का आभूषण धर्म है।

उपकार का बदला चुकाने || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 117

उपकार का बदला चुकाने || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 117

581 : - देहधारी को सुख-दुःख की कोई कमी नहीं रहती। 581 : - dehadhaaree

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

306 : - परीक्षा करने से लक्ष्मी स्थिर रहती है। 307 : - सभी प्रकार

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 135

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 135

671 : - दुर्वचनों से कुल का नाश हो जाता है। 671 : - durvachanon

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

286 : - निर्बल राजा की आज्ञा की भी अवहेलना कदापि नहीं करनी चाहिए। 286