चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55
271 : - ईर्ष्या करने वाले दो समान व्यक्तियों में विरोध पैदा कर देना चाहिए।
272 : - चतुरंगणी सेना (हाथी, घोड़े, रथ और पैदल) होने पर भी इन्द्रियों के वश में रहने वाला राजा नष्ट हो जाता है।
273 : - जुए में लिप्त रहने वाले के कार्य पूरे नहीं होते है।
274 : - शिकारपरस्त राजा धर्म और अर्थ दोनों को नष्ट कर लेता है।
275 : - शराबी व्यक्ति का कोई कार्य पूरा नहीं होता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

211 : - प्रकृति (सहज) रूप से प्रजा के संपन्न होने से नेताविहीन राज्य भी

कायर व्यक्ति को कार्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 68

कायर व्यक्ति को कार्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 68

chanakya niti for success in life 336 : - परीक्षा किये बिना कार्य करने से

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46

226 : - सुख और दुःख में समान रूप से सहायक होना चाहिए। 227 :

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 127

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 127

chanakya niti for motivation 631 : - प्रिय वचन बोलने वाले का कोई शत्रु नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 60

296 : - कार्य का स्वरुप निर्धारित हो जाने के बाद वह कार्य लक्ष्य बन

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 145

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 145

721 : - बुद्धिमानों के शत्रु नहीं होते। 721 : - buddhimaanon ke shatru nahin