चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 54

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 54

266 : - दुर्बल के आश्रय से दुःख ही होता है।
267 : - अग्नि के समान तेजस्वी जानकर ही किसी का सहारा लेना चाहिए।
268 : - राजा के प्रतिकूल आचरण नहीं करना चाहिए।
269 : - व्यक्ति को उट-पटांग अथवा गवार वेशभूषा धारण नहीं करनी चाहिए।
270 : - देवता के चरित्र का अनुकरण नहीं करना चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

706 : - विश्वासघाती की कहीं भी मुक्ति नहीं होती। 706 : - vishvaasaghaatee kee

स्त्री के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 102

स्त्री के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 102

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 506 : - स्त्री के प्रति आसक्त रहने वाले पुरुष को

मूर्खों से विवाद || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 86

मूर्खों से विवाद || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 86

chanakya niti for success in life in hindi 426 : - अपने तथा अन्य लोगों

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

711 : - असहाय पथिक बनकर मार्ग में न जाएं। 711 : - asahaay pathik

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

696 : - नित्य दूसरे को समभागी बनाए। 696 : - nity doosare ko samabhaagee

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

206 : - कल का कार्य आज ही कर ले। 207 : - सुख का