चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 53

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 53
261 : - बलवान से युद्ध करना हाथियों से पैदल सेना को लड़ाने के समान है।
262 : - कच्चा पात्र कच्चे पात्र से टकराकर टूट जाता है।
263 : - संधि और एकता होने पर भी सतर्क रहे।
264 : - शत्रुओं से अपने राज्य की पूर्ण रक्षा करें।
265 : - शक्तिहीन को बलवान का आश्रय लेना चाहिए।

chanakya niti for mo

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

tivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

भोजन के बारे में क्या कहते है चाणक्य  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 84

भोजन के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 84

Chanakya Neeti In Hindi 416 : - यदि न खाने योग्य भोजन से पेट में

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 134

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 134

666 : - स्वर्ग की प्राप्ति शाश्वत अर्थात सनातन नहीं होती। 666 : - svarg

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

211 : - प्रकृति (सहज) रूप से प्रजा के संपन्न होने से नेताविहीन राज्य भी

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

152 : - वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 64

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 64

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 316 : - मनुष्य के कार्ये में आई विपति को कुशलता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

156 : - आपातकाल में स्नेह करने वाला ही मित्र होता है। 157 : -