चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52
256 : - आवाप अर्थात दूसरे राष्ट्र से संबंध नीति का परिपालन मंत्रिमंडल का कार्य है।
257 : - दुर्बल के साथ संधि न करे।
258 : - ठंडा लोहा लोहे से नहीं जुड़ता।
259 : - संधि करने वालो में तेज़ ही संधि का हेतु होता है।
260 : - शत्रु के प्रयत्नों की समीक्षा करते रहना चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 21

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 21

101 : - मधुर वाणी, दान देने में रुचि, देवताओं कि पूजा तथा ब्राह्मण को

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

181 : - दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है। 182 : - किसी भी

पुरुष बूढ़ा क्यों हो जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti ||  भाग 97

पुरुष बूढ़ा क्यों हो जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 97

481 : - अधिक मैथुन (सेक्स) से पुरुष बूढ़ा हो जाता है। 481 : -

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 7

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 7

chanakya video 31 : - सिंह से हमें ये सीखना चाहिए कि काम छोटा हो

चाणक्य के आभूषण अनुसार क्या है ? || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 110

चाणक्य के आभूषण अनुसार क्या है ? || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 110

chanakya niti for success in life 546 : - सौंदर्य अलंकारों अर्थात आभूषणों से छिप

दूसरों की रहस्यमयी बातों को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 89

दूसरों की रहस्यमयी बातों को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 89

441 : - विनाश का उपस्थित होना सहज प्रकर्ति से ही जाना जा सकता है।