चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52
256 : - आवाप अर्थात दूसरे राष्ट्र से संबंध नीति का परिपालन मंत्रिमंडल का कार्य है।
257 : - दुर्बल के साथ संधि न करे।
258 : - ठंडा लोहा लोहे से नहीं जुड़ता।
259 : - संधि करने वालो में तेज़ ही संधि का हेतु होता है।
260 : - शत्रु के प्रयत्नों की समीक्षा करते रहना चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

211 : - प्रकृति (सहज) रूप से प्रजा के संपन्न होने से नेताविहीन राज्य भी

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 124

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 124

chanakya niti for motivation 616 : - याचकों का अपमान अथवा उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।

बुद्धिमान लोगों की 5 बातें  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 65

बुद्धिमान लोगों की 5 बातें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 65

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 321 : - हे बुद्धिमान लोगों ! अपना धन उन्ही को

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

156 : - आपातकाल में स्नेह करने वाला ही मित्र होता है। 157 : -

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 121

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 121

chanakya niti for motivation 601 : - धर्म का विरोध कभी न करें। 601 :

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 61

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 61

301 : - अशुभ कार्यों को नहीं करना चाहिए। 302 : - समय को समझने