चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 51

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 51
251 : - निर्बल राजा को तत्काल संधि करनी चाहिए।
252 : - पडोसी राज्यों से सन्धियां तथा पारस्परिक व्यवहार का आदान-प्रदान और संबंध विच्छेद आदि का निर्वाह मंत्रिमंडल करता है।
253 : - राज्य को नीतिशास्त्र के अनुसार चलना चाहिए।
254 : - निकट के राज्य स्वभाव से शत्रु हो जाते है।
255 : - किसी विशेष प्रयोजन के लिए ही शत्रु मित्र बनता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

121 : - अन्न से बढ़कर कोई दान नहीं होता. गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ है और

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video 56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 139

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 139

Chanakay Niti 691 : - दिन में सोने से आयु कम होती है। 691 :

आलसी व्यक्ति के बारे में क्या कहा गया है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 101

आलसी व्यक्ति के बारे में क्या कहा गया है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 101

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 501 : - मर्यादा का कभी उल्लंघन न करें। 501 :

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

206 : - कल का कार्य आज ही कर ले। 207 : - सुख का

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 43

211 : - प्रकृति (सहज) रूप से प्रजा के संपन्न होने से नेताविहीन राज्य भी