चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 48

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 48
236 : - भविष्य के अन्धकार में छिपे कार्य के लिए श्रेष्ठ मंत्रणा दीपक के समान प्रकाश देने वाली है।

237 : - मंत्रणा के समय कर्त्तव्य पालन में कभी ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए।

238 : - मंत्रणा रूप आँखों से शत्रु के छिद्रों अर्थात उसकी कमजोरियों को देखा-परखा जाता है।

239 : - राजा, गुप्तचर और मंत्री तीनो का एक मत होना किसी भी मंत्रणा की सफलता है।

240 : - कार्य-अकार्य के तत्वदर्शी ही मंत्री होने चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

अशांति उत्पन्न क्यों होती है  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

अशांति उत्पन्न क्यों होती है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

Chanakya Neeti In Hindi 361 : - जो धर्म और अर्थ की वृद्धि नहीं करता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 13

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 13

chanakya video 61 : - काम मनुष्य का सबसे बड़ा रोग है. अज्ञान या मोह

कठोर दंड से सभी लोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 69

कठोर दंड से सभी लोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 69

chanakya niti for success in life 341 : - अपने स्वामी के स्वभाव को जानकार

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग  95

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 95

471 : - नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है। 471 :

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 8

चाणक्य के अनमोल विचार || chanakya status video – Part 8

chanakya video 36 : - मनुष्य स्वर्ग का आकांक्षी है, देवता मुक्ति चाहते हैं ,

बुद्धिमान लोगों की 5 बातें  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 65

बुद्धिमान लोगों की 5 बातें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 65

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 321 : - हे बुद्धिमान लोगों ! अपना धन उन्ही को