चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46
226 : - सुख और दुःख में समान रूप से सहायक होना चाहिए।

227 : - स्वाभिमानी व्यक्ति प्रतिकूल विचारों को सम्मुख रखकर दोबारा उन पर विचार करे।

228 : - अविनीत व्यक्ति को स्नेही होने पर भी अपनी मंत्रणा में नहीं रखना चाहिए।

229 : - ज्ञानी और छल-कपट से रहित शुद्ध मन वाले व्यक्ति को ही मंत्री बनाए।

230 : - समस्त कार्य पूर्व मंत्रणा से करने चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 52

256 : - आवाप अर्थात दूसरे राष्ट्र से संबंध नीति का परिपालन मंत्रिमंडल का कार्य

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 128

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 128

chanakya niti for motivation 636 : - एरण्ड वृक्ष का सहारा लेकर हाथी को अप्रसन्न

जहाँ पाप होता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 88

जहाँ पाप होता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 88

chanakya niti for success in life in hindi 436 : - धर्म के द्वारा ही

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 58

286 : - निर्बल राजा की आज्ञा की भी अवहेलना कदापि नहीं करनी चाहिए। 286

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

152 : - वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 131

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 131

chanakya niti for motivation 651 : - बिना अधिकार के किसी के घर में प्रवेश