चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 44

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 44
216 : - जहां लक्ष्मी (धन) का निवास होता है, वहां सहज ही सुख-सम्पदा आ जुड़ती है।

217 : - इन्द्रियों पर विजय का आधार विनर्मता है।

218 : - प्रकर्ति का कोप सभी कोपों से बड़ा होता है।

219 : - शासक को स्वयं योगय बनकर योगय प्रशासकों की सहायता से शासन करना चाहिए।

220 : - योग्य सहायकों के बिना निर्णय करना बड़ा कठिन होता है।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 37

181 : - दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है। 182 : - किसी भी

दूसरे के दोष ही दिखाई देना || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 107

दूसरे के दोष ही दिखाई देना || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 107

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 531 : - मुर्ख व्यक्ति को अपने दोष दिखाई नहीं देते,

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

Chanakya Neeti In Hindi 356 : - दूसरे के धन पर भेदभाव रखना स्वार्थ है।

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

chanakya niti for success in life 571 : - गुणी पुत्र माता-पिता की दुर्गति नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 54

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 54

266 : - दुर्बल के आश्रय से दुःख ही होता है। 267 : - अग्नि

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

152 : - वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात