चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41
201 : - आग में आग नहीं डालनी चाहिए। अर्थात क्रोधी व्यक्ति को अधिक क्रोध नहीं दिलाना चाहिए।

202 : - मनुष्य की वाणी ही विष और अमृत की खान है।

203 : - दुष्ट की मित्रता से शत्रु की मित्रता अच्छी होती है।

204 : - दूध के लिए हथिनी पालने की जरुरत नहीं होती। अर्थात आवश्कयता के अनुसार साधन जुटाने चाहिए।

205 : - कठिन समय के लिए धन की रक्षा करनी चाहिए।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya niti for motivation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 49

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 49

241 : - छः कानो में पड़ने से (तीसरे व्यक्ति को पता पड़ने से) मंत्रणा

इन जगहों पर खाली हाथ नहीं जाना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 112

इन जगहों पर खाली हाथ नहीं जाना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 112

chanakya niti for success in life 556 : - राजा से बड़ा कोई देवता नहीं।

मूर्खों से विवाद || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 86

मूर्खों से विवाद || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 86

chanakya niti for success in life in hindi 426 : - अपने तथा अन्य लोगों

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

731 : - तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है। 731 : - tattvon

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 136

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 136

676 : - पराई वस्तु को पाने की लालसा नहीं रखनी चाहिए। 676 : -

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 45

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 45

221 : - एक अकेला पहिया नहीं चला करता। 222 : - सुख और दुःख