चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 27

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 27
132 : - जिस प्रकार सभी पर्वतों पर मणि नहीं मिलती, सभी हाथियों के मस्तक में मोती उत्पन्न नहीं होता, सभी वनों में चंदन का वृक्ष नहीं होता, उसी प्रकार सज्जन पुरुष सभी जगहों पर नहीं मिलते हैं।

133 : - झूठ बोलना, उतावलापन दिखाना, दुस्साहस करना, छल-कपट करना, मूर्खतापूर्ण कार्य करना, लोभ करना, अपवित्रता और निर्दयता - ये सभी स्त्रियों के स्वाभाविक दोष हैं। चाणक्य उपर्युक्त दोषों को स्त्रियों का स्वाभाविक गुण मानते हैं। हालाँकि वर्तमान दौर की शिक्षित स्त्रियों में इन दोषों का होना सही नहीं कहा जा सकता है।

134 : -चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति का पुत्र उसके नियंत्रण में रहता है, जिसकी पत्नी आज्ञा के अनुसार आचरण करती है और जो व्यक्ति अपने कमाए धन से पूरी तरह संतुष्ट रहता है। ऐसे मनुष्य के लिए यह संसार ही स्वर्ग के समान है।

135 : - चाणक्य का मानना है कि वही गृहस्थी सुखी है, जिसकी संतान उनकी आज्ञा का पालन करती है। पिता का भी कर्तव्य है कि वह पुत्रों का पालन-पोषण अच्छी तरह से करे। इसी प्रकार ऐसे व्यक्ति को मित्र नहीं कहा जा सकता है, जिस पर विश्वास नहीं किया जा सके और ऐसी पत्नी व्यर्थ है जिससे किसी प्रकार का सुख प्राप्त न हो।

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

chanakya thoughts success

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

मुर्ख व्यक्ति प्रकट कर देते हैं || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 82

मुर्ख व्यक्ति प्रकट कर देते हैं || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 82

406 : - क्षमा करने योग्य पुरुष को दुःखी न करें। 406 : - kshama

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 122

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 122

chanakya niti for motivation 606 : - सत्य पर ही देवताओं का आशीर्वाद बरसता है।

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

चाणक्य के अनुसार स्त्री पत्नी में क्या अंतर है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 115

chanakya niti for success in life 571 : - गुणी पुत्र माता-पिता की दुर्गति नहीं

ज्ञानियों में भी दोष  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi 371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

306 : - परीक्षा करने से लक्ष्मी स्थिर रहती है। 307 : - सभी प्रकार

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

Chanakya Neeti In Hindi 421 : - अजीर्ण की स्थिति में भोजन दुःख पहुंचाता है।