चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 20

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 20
96 : - गुणी व्यक्ति भी आश्रय नहीं मिलने पर दुःखी हो जाता है, क्योंकि निर्दोष मणि को भी आश्रय की आवश्यकता होती है.

96 : - gunee vyakti bhee aashray nahin milane par duhkhee ho jaata hai, kyonki nirdosh mani ko bhee aashray kee aavashyakata hotee hai. 
97 : - गुणों से ही मनुष्य महान बनता है, न कि किसी ऊँचे स्थान पर बैठ जाने से. राजमहल के शीर्ष पर बैठ जाने पर भी कौआ गरुड़ नहीं बनता.

97 : - gunon se hee manushy mahaan banata hai, na ki kisee oonche sthaan par baith jaane se. raajamahal ke sheersh par baith jaane par bhee kaua garud nahin banata. 
98 : - अगर गुणवान व्यक्ति किसी गुणहीन व्यक्ति कि भी प्रशंसा करे तो वह बड़ा हो जाता है. अपनी प्रशंसा स्वयं करने पर तो इंद्र भी छोटा हो जाता है.

98 : - agar gunavaan vyakti kisee gunaheen vyakti ki bhee prashansa kare to vah bada ho jaata hai. apanee prashansa svayan karane par to indr bhee chhota ho jaata hai. 
99 : - जिसके पास स्वयं अपनी बुद्धि नहीं है उसके लिए शास्त्र क्या कर सकते है. आँखों के अंधे के लिए दर्पण क्या करेगा. अर्थात् जो जन्म से ही मूर्ख है, जिसके पास अपनी बुद्धि न हो, शास्त्र उसका क्या भला कर सकते हैं. वह शास्त्रों से कुछ नहीं सीख सकता.

99 : - jisake paas svayan apanee buddhi nahin hai usake lie shaastr kya kar sakate hai. aankhon ke andhe ke lie darpan kya karega. arthaat jo janm se hee moorkh hai, jisake paas apanee buddhi na ho, shaastr usaka kya bhala kar sakate hain. vah shaastron se kuchh nahin seekh sakata. 
100 : - अगर मूर्ख व्यक्ति चारों वेद और अनेक धर्म शास्त्र पढ़ ले ,फिर भी जैसे सब्जी के रस में डूबा चमचा रस के स्वाद को नहीं जानता, वैसे ही मूर्ख अपनी आत्मा को नहीं जान पाता.

100 : - agar moorkh vyakti chaaron ved aur anek dharm shaastr padh le ,phir bhee jaise sabjee ke ras mein dooba chamacha ras ke svaad ko nahin jaanata, vaise hee moorkh apanee aatma ko nahin jaan paata.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Chanakya niti चाणक्य नीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

681 : - सज्जन दुर्जनों में विचरण नही करते। 681 : - sajjan durjanon mein

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग  95

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 95

471 : - नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है। 471 :

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 38

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 38

186 : - अर्थ, धर्म और कर्म का आधार है। 187 : - शत्रु दण्डनीति के ही

उचित दंड || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 70

उचित दंड || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 70

chanakya niti for success in life 346 : - राजा योग्य अर्थात उचित दंड देने

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 15

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 15

71 : - अप्रिय बोलना, दुष्टों की संगति, क्रोध करना, स्वजन से बैर ये सब

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 142

706 : - विश्वासघाती की कहीं भी मुक्ति नहीं होती। 706 : - vishvaasaghaatee kee