चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video

56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां के लोग दान नहीं करना जानते, जहाँ अच्छे काम करने में कोई चतुर न हो, किन्तु लूट- खसोट, बुरे चाल-चलन में सभी एक से बड़कर एक हों. ऐसी जगह को गंदगी का ढेर ही समझना चाहिए और वहां के लोगों को गंदगी के कीड़े .
56 : - jis shahar mein vidvaan, buddhimaan, gyaanee purush nahin rahate, jahaan ke log daan nahin karana jaanate, jahaan achchhe kaam karane mein koee chatur na ho, kintu loot- khasot, bure chaal-chalan mein sabhee ek se badakar ek hon. aisee jagah ko gandagee ka dher hee samajhana chaahie aur vahaan ke logon ko gandagee ke keede . 
57 : - जैसे फलों में गंध, तिलों में तेल, काष्ठ में अग्नि, दुग्ध में घी, गन्ने में गुड़ है, उसी तरह शरीर में परमात्मा है. इसे पहचानना चाहिए.
57 : - jaise phalon mein gandh, tilon mein tel, kaashth mein agni, dugdh mein ghee, ganne mein gud hai, usee tarah shareer mein paramaatma hai. ise pahachaanana chaahie. 
58 : - साधुजन के दर्शन से पुण्य प्राप्त होता है. साधु तीर्थों के समान होते हैं, तीर्थों का फल तो कुछ समय बाद मिलता है, किन्तु साधु समागम तुरंत फल देता है’
58 : - saadhujan ke darshan se puny praapt hota hai. saadhu teerthon ke samaan hote hain, teerthon ka phal to kuchh samay baad milata hai, kintu saadhu samaagam turant phal deta hai’ 
59 : - ईश्वर ना काष्ठ में है, न मिट्टी में, न ही मूर्ति में. वह केवल भावना में होता है. अतः भावना ही मुख्य है.
59 : - eeshvar na kaashth mein hai, na mittee mein, na hee moorti mein. vah keval bhaavana mein hota hai. atah bhaavana hee mukhy hai.
60 : - लक्ष्मी चंचल है. प्राण, जीवन, शरीर सब कुछ चंचल और नाशवान हैं. संसार में केवल धर्म ही निश्चल है.
60 : - lakshmee chanchal hai. praan, jeevan, shareer sab kuchh chanchal aur naashavaan hain. sansaar mein keval dharm hee nishchal hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

पाप कर्म करने वाले को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 77

पाप कर्म करने वाले को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 77

Chanakya Neeti In Hindi 381 : - मछेरा जल में प्रवेश करके ही कुछ पाता

स्त्री के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 102

स्त्री के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 102

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 506 : - स्त्री के प्रति आसक्त रहने वाले पुरुष को

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 45

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 45

221 : - एक अकेला पहिया नहीं चला करता। 222 : - सुख और दुःख

धन का नाश  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

धन का नाश || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

chanakya niti for success in life in hindi 466 : - दूसरे का धन किंचिद्

ज्ञानियों में भी दोष  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi 371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

161 : - यदि माता दुष्ट है तो उसे भी त्याग देना चाहिए। 162 :