चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 11

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 11

chanakya video

51 : - किसी से अपना काम निकालना हो तो मधुर वचन बोलें. जिस प्रकार हिरण का शिकार करने के लिए शिकारी मधुर स्वर में गीत गाता है.
51 : - kisee se apana kaam nikaalana ho to madhur vachan bolen. jis prakaar hiran ka shikaar karane ke lie shikaaree madhur svar mein geet gaata hai.
52 : - धन महत्वपूर्ण है, जिसके पास धन है, सब उसके अपने हैं. धनवान के लिए बुरे काम भी अच्छे हो जाते हैं .मूर्ख धनवान कि बात सब सुनते हैं और अनेक मूर्धन्य विद्वान बने रहते है. (आज के युग में ये शब्द कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं.)
52 : - dhan mahatvapoorn hai, jisake paas dhan hai, sab usake apane hain. dhanavaan ke lie bure kaam bhee achchhe ho jaate hain .moorkh dhanavaan ki baat sab sunate hain aur anek moordhany vidvaan bane rahate hai. (aaj ke yug mein ye shabd kaheen adhik mahatvapoorn hain.)
53 : - कोयल का रूप उसका स्वर है, पतिव्रता होना ही स्त्रियों कि सुन्दरता है. कुरूप लोगों कि विद्या ही उनका स्वरूप है तथा तपस्वियों का रूप क्षमा करना है.
53 : - koyal ka roop usaka svar hai, pativrata hona hee striyon ki sundarata hai. kuroop logon ki vidya hee unaka svaroop hai tatha tapasviyon ka roop kshama karana hai.
54 : - सभी औषधियों में अमृत प्रधान है. सभी सुखों में भोजन प्रधान है. सभी इन्द्रियों में आँख मुख्य है. सभी अंगों में सिर महत्वपूर्ण है.
54 : - sabhee aushadhiyon mein amrt pradhaan hai. sabhee sukhon mein bhojan pradhaan hai. sabhee indriyon mein aankh mukhy hai. sabhee angon mein sir mahatvapoorn hai.
55 : - व्यक्ति के आचरण से उसके कुल का परिचय मिलता है . बोली से देश का पता लगता है. आदर-सत्कार से प्रेम का और शरीर से व्यक्ति के भोजन का पता लगता है.
55 : - vyakti ke aacharan se usake kul ka parichay milata hai . bolee se desh ka pata lagata hai. aadar-satkaar se prem ka aur shareer se vyakti ke bhojan ka pata lagata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के आभूषण अनुसार क्या है ? || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 110

चाणक्य के आभूषण अनुसार क्या है ? || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 110

chanakya niti for success in life 546 : - सौंदर्य अलंकारों अर्थात आभूषणों से छिप

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 44

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 44

216 : - जहां लक्ष्मी (धन) का निवास होता है, वहां सहज ही सुख-सम्पदा आ

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 61

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 61

301 : - अशुभ कार्यों को नहीं करना चाहिए। 302 : - समय को समझने

धन का नाश  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

धन का नाश || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

chanakya niti for success in life in hindi 466 : - दूसरे का धन किंचिद्

विशेषज्ञ व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 96

विशेषज्ञ व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 96

476 : - लोभी और कंजूस स्वामी से कुछ पाना जुगनू से आग प्राप्त करने

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

121 : - अन्न से बढ़कर कोई दान नहीं होता. गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ है और