चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 1

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 1

Chanakya video

1 : - बुद्धिमान वही है जो अपनी कमियों को किसी के सामने उजागर न करें. घर की गुप्त बातें, धन का विनाश, दुष्टों द्वारा धोखा,अपमान, मन का चिंता इन बातों को अपने तक ही सीमित रखना चाहिए.
1:- buddhimaan vahee hai jo apanee kamiyon ko kisee ke saamane ujaagar na karen. ghar kee gupt baaten, dhan ka vinaash, dushton dvaara dhokha, apamaan, man ka chinta in baaton ko apane tak hee seemit rakhana chaahie.
2 : - मनुष्य अकेला ही जन्म लेता है, अकेला ही दुःख भोगता है, अकेला ही मोक्ष का अधिकारी होता है और अकेला ही नरक जाता है. अतः रिश्ते-नाते तो क्षण भंगुर हैं, हमें अकेले ही दुनिया के मंच पर अभिनय करना पड़ता है.
2:- manushy akela hee janm leta hai, akela hee duhkh bhogata hai, akela hee moksh ka adhikaaree hota hai aur akela hee narak jaata hai. atah rishte-naate to kshan bhangur hain, hamen akele hee duniya ke manch par abhinay karana padata hai.
3 : - विद्वान सब जगह सम्माननीय होता है. अपने उच्च गुणों के कारण देश-विदेश सभी जगह वह पूजनीय होता है .
3:- vidvaan sab jagah sammaananeey hota hai. apane uchch gunon ke kaaran desh-videsh sabhee jagah vah poojaneey hota hai .
4 :-- विद्या ही सर्वोच्च धन है. विद्या के कारण ही खाली हाथ होने पर भी विदेश में भी धन कमाया जा सकता है तथा मान सम्मान बढ़ाया जा सकता है. विद्या के अभाव में उच्च कुल में जन्मा व्यक्ति भी सम्मान नहीं पाता है.
4 :- vidya hee sarvochch dhan hai. vidya ke kaaran hee khaalee haath hone par bhee videsh mein bhee dhan kamaaya ja sakata hai tatha maan sammaan badhaaya ja sakata hai. vidya ke abhaav mein uchch kul mein janma vyakti bhee sammaan nahin paata hai.
5 :- सुपात्र को दिए गए धन का फल अनन्त काल तक मिलता रहता है. भूखे को दिए गए भोजन का यश कभी ख़त्म नहीं होता. दान देना सबसे महान कार्य है.
5 :- supaatr ko die gae dhan ka phal anant kaal tak milata rahata hai. bhookhe ko die gae bhojan ka yash kabhee khatm nahin hota. daan dena sabase mahaan kaary hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

736 : - कूट साक्षी नहीं होना चाहिए। 736 : - koot saakshee nahin hona

ज्ञानियों में भी दोष  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

ज्ञानियों में भी दोष || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 75

Chanakya Neeti In Hindi 371 : - साधारण दोष देखकर महान गुणों को त्याज्य नहीं

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 8

चाणक्य के अनमोल विचार || chanakya status video – Part 8

chanakya video 36 : - मनुष्य स्वर्ग का आकांक्षी है, देवता मुक्ति चाहते हैं ,

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग  95

भूखा व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 95

471 : - नीच की विधाएँ पाप कर्मों का ही आयोजन करती है। 471 :

धर्म के समान क्या  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

धर्म के समान क्या || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 87

chanakya niti for success in life in hindi 431 : - धर्म के समान कोई

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 2

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 2

6 :- बिना सत्य के सारा संसार व्यर्थ है. संसार में सब कुछ सत्य पर