चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148
736 : - कूट साक्षी नहीं होना चाहिए।
736 : - koot saakshee nahin hona chaahie.
737 : - झूठी गवाही देने वाला नरक में जाता है।
737 : - jhoothee gavaahee dene vaala narak mein jaata hai.
738 : - पक्ष अथवा विपक्ष में साक्षी देने वाला न तो किसी का भला करता है, न बुरा।
738 : - paksh athava vipaksh mein saakshee dene vaala na to kisee ka bhala karata hai, na bura.
739 : - व्यक्ति के मन में क्या है, यह उसके व्यवहार से प्रकट हो जाता है।
739 : - vyakti ke man mein kya hai, yah usake vyavahaar se prakat ho jaata hai.
740 : - पापी की आत्मा उसके पापों को प्रकट कर देती है।
740 : - paapee kee aatma usake paapon ko prakat kar detee hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

कायर व्यक्ति को कार्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 68

कायर व्यक्ति को कार्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 68

chanakya niti for success in life 336 : - परीक्षा किये बिना कार्य करने से कार्य विपत्ति में पड़ जाता है। 336 : - pareeksha kiye bina kaary karane se

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 62

306 : - परीक्षा करने से लक्ष्मी स्थिर रहती है। 307 : - सभी प्रकार की सम्पति का सभी उपायों से संग्रह करना चाहिए। 308 : - बिना विचार कार्ये

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

शत्रु से भी बड़ा || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 85

Chanakya Neeti In Hindi 421 : - अजीर्ण की स्थिति में भोजन दुःख पहुंचाता है। 421 : - ajeern kee sthiti mein bhojan duhkh pahunchaata hai. 422 : -रोग शत्रु