जगाने आती हैं

जगाने आती हैं
कठिनाइयाँ मनुष्य के पुरुषार्थ को जगाने आती हैं…

kathinaiyaan manushy ke purushaarth ko jagaane aatee hai…

Difficulties come to awaken man's happiness …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

अपमान का भय नहीं होता || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 92

अपमान का भय नहीं होता || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 92

chanakya niti for success in life in hindi 456 : - उपार्जित धन का त्याग ही उसकी रक्षा है। अर्थात उपार्जित धन को लोक हित के कार्यों में खर्च करके

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

661 : - इन्द्रियों को वश में करना ही तप का सार है। 661 : - indriyon ko vash mein karana hee tap ka saar hai. 662 : - स्त्री

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

chanakya niti for success in life in hindi 451 : - धनवान व्यक्ति का सारा संसार सम्मान करता है। 451 : - dhanavaan vyakti ka saara sansaar sammaan karata hai.