जो आता है ले लो। | Swami Vivekananda |

जो आता है ले लो। | Swami Vivekananda |

बस वही जीते हैं ,जो दूसरों के लिए जीते हैं।

Just live for those who live for others.

bas vahee jeete hain ,jo doosaron ke lie jeete hain. 

शक्ति जीवन है , निर्बलता मृत्यु है . विस्तार जीवन है , संकुचन मृत्यु है . प्रेम जीवन है , द्वेष मृत्यु है।

Power is life, weakness is death. Extension is life, contraction is death. Love is life, hatred is death.

shakti jeevan hai , nirbalata mrtyu hai . vistaar jeevan hai , sankuchan mrtyu hai . prem jeevan hai , dvesh mrtyu hai. 

हम जो बोते हैं वो काटते हैं। हम स्वयं अपने भाग्य के विधाता हैं।

What we sow, they bite. We are the creators of our own destiny.

ham jo bote hain vo kaatate hain. ham svayan apane bhaagy ke vidhaata hain. 

 

हवा बह रही है ; वो जहाज जिनके पाल खुले हैं , इससे टकराते हैं , और अपनी दिशा में आगे बढ़ते हैं , पर जिनके पाल बंधे हैं हवा को नहीं पकड़ पाते। क्या यह हवा की गलती है ?…..हम खुद अपना भाग्य बनाते हैं।

The wind is blowing; Those ships whose arms are open, crush them, and move on in their direction, but whose sails are not able to catch the air. Is this a winding fault? … .. We make ourselves our own fortune.

hawa bah rahee hai ; vo jahaaj jinake paal khule hain , isase takaraate hain , aur apanee disha mein aage badhate hain , par jinake paal bandhe hain hava ko nahin pakad paate. kya yah hava kee galatee hai ?…..ham khud apana bhaagy banaate hain.

 

ना खोजो ना बचो, जो आता है ले लो।

Do not search, do not escape, take whatever comes.

na khojo na bacho , jo aata hai le lo.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

स्तु से व्याकुल नहीं होता। |  Swami Vivekananda |

स्तु से व्याकुल नहीं होता। | Swami Vivekananda |

उस व्यक्ति ने अमरत्त्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं

भाग्य बनाते हैं। | Swami Vivekananda |

भाग्य बनाते हैं। | Swami Vivekananda |

बस वही जीते हैं ,जो दूसरों के लिए जीते हैं। Just live for those who

मनुष्य द्वारा चुना हर मार्ग |  Swami Vivekananda |

मनुष्य द्वारा चुना हर मार्ग | Swami Vivekananda |

  जिस तरह से विभिन्न स्रोतों से उत्पन्न धाराएँ अपना जल समुद्र में मिला देती

उसे पाने का एक ही |  Swami Vivekananda |

उसे पाने का एक ही | Swami Vivekananda |

यदि उपनिषदों से बम की तरह आने वाला और बम गोले की तरह अज्ञान के

आप यकीन कर सकते | Swami Vivekananda |

आप यकीन कर सकते | Swami Vivekananda |

जिस दिन आपके सामने कोई समस्या न आये – आप यकीन कर सकते है की

नष्ट हो जाते हैं। |  Swami Vivekananda |

नष्ट हो जाते हैं। | Swami Vivekananda |

खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है। To think of ourselves as weak is