खुद को मजबूत बनाने | Swami Vivekananda |

खुद को मजबूत बनाने | Swami Vivekananda |

विश्व एक व्यायामशाला है जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं।

The world is a gym where we come to strengthen ourselves.

vishv ek vyaayaamashaala hai jahaan ham khud ko majaboot banaane ke lie aate hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

सभी चीजों का रहस्य है.| Swami Vivekananda |

सभी चीजों का रहस्य है.| Swami Vivekananda |

इस दुनिया में सभी भेद-भाव किसी स्तर के हैं, ना कि प्रकार के, क्योंकि एकता

भाग्य बनाते हैं। | Swami Vivekananda |

भाग्य बनाते हैं। | Swami Vivekananda |

बस वही जीते हैं ,जो दूसरों के लिए जीते हैं। Just live for those who

तो इसका कुछ मूल्य है |  Swami Vivekananda |

तो इसका कुछ मूल्य है | Swami Vivekananda |

अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा,

एक सत्य ही होगा। | Swami Vivekananda |

एक सत्य ही होगा। | Swami Vivekananda |

सत्य को हज़ार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य ही

कितना अन्धकार है! | Swami Vivekananda

कितना अन्धकार है! | swami vivekananda quotes hindi |

ब्रह्माण्ड कि सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं। वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर

ऐसे लोग चाहिए | Swami Vivekananda |

ऐसे लोग चाहिए | Swami Vivekananda |

जगत को जिस वस्तु की आवश्यकता होती है वह है चरित्र। संसार को ऐसे लोग