चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 150

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 150
746 : - राजा के दर्शन देने से प्रजा सुखी होती है।
746 : - raaja ke darshan dene se praja sukhee hotee hai.
747 : - अहिंसा धर्म का लक्षण है।
747 : - ahinsa dharm ka lakshan hai.
748 : - संसार की प्रत्येक वास्तु नाशवान है।
748 : - sansaar kee pratyek vaastu naashavaan hai.
749 : - भले लोग दूसरों के शरीर को भी अपना ही शरीर मानते है।
749 : - bhale log doosaron ke shareer ko bhee apana hee shareer maanate hai.
750 : - मांस खाना सभी के लिए अनुचित है।
750 : - maans khaana sabhee ke lie anuchit hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

711 : - असहाय पथिक बनकर मार्ग में न जाएं। 711 : - asahaay pathik

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video 56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां

इन जगहों पर खाली हाथ नहीं जाना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 112

इन जगहों पर खाली हाथ नहीं जाना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 112

chanakya niti for success in life 556 : - राजा से बड़ा कोई देवता नहीं।

दूसरों की रहस्यमयी बातों को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 89

दूसरों की रहस्यमयी बातों को || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 89

441 : - विनाश का उपस्थित होना सहज प्रकर्ति से ही जाना जा सकता है।

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

chanakya niti for success in life 541 : - वाहनों पर यात्रा करने वाले पैदल

वास्तव में जीते है। | Swami Vivekananda |

वास्तव में जीते है। | swami vivekananda quotes hindi |

यह जीवन अल्पकालीन है, संसार की विलासिता क्षणिक है, लेकिन जो दुसरो के लिए जीते