चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 150

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti भाग 150
746 : - राजा के दर्शन देने से प्रजा सुखी होती है।
746 : - raaja ke darshan dene se praja sukhee hotee hai.
747 : - अहिंसा धर्म का लक्षण है।
747 : - ahinsa dharm ka lakshan hai.
748 : - संसार की प्रत्येक वास्तु नाशवान है।
748 : - sansaar kee pratyek vaastu naashavaan hai.
749 : - भले लोग दूसरों के शरीर को भी अपना ही शरीर मानते है।
749 : - bhale log doosaron ke shareer ko bhee apana hee shareer maanate hai.
750 : - मांस खाना सभी के लिए अनुचित है।
750 : - maans khaana sabhee ke lie anuchit hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 23

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 23

111 : - दुष्ट और सांप में सांप अच्छा है क्योंकि सांप तो एक बार

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 124

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 124

chanakya niti for motivation 616 : - याचकों का अपमान अथवा उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 19

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 19

91 : - जो व्यक्ति उत्सव में, दुःख में अकाल पड़ने पर, संकट में, राजदरबार

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 26

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 26

121 : - अन्न से बढ़कर कोई दान नहीं होता. गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ है और

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

chanakya niti for success in life 541 : - वाहनों पर यात्रा करने वाले पैदल

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 40

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 40

196 : - जिसकी आत्मा संयमित होती है, वही आत्मविजयी होता है। 197 : -