चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 148
736 : - कूट साक्षी नहीं होना चाहिए।
736 : - koot saakshee nahin hona chaahie.
737 : - झूठी गवाही देने वाला नरक में जाता है।
737 : - jhoothee gavaahee dene vaala narak mein jaata hai.
738 : - पक्ष अथवा विपक्ष में साक्षी देने वाला न तो किसी का भला करता है, न बुरा।
738 : - paksh athava vipaksh mein saakshee dene vaala na to kisee ka bhala karata hai, na bura.
739 : - व्यक्ति के मन में क्या है, यह उसके व्यवहार से प्रकट हो जाता है।
739 : - vyakti ke man mein kya hai, yah usake vyavahaar se prakat ho jaata hai.
740 : - पापी की आत्मा उसके पापों को प्रकट कर देती है।
740 : - paapee kee aatma usake paapon ko prakat kar detee hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 20

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 20

96 : - गुणी व्यक्ति भी आश्रय नहीं मिलने पर दुःखी हो जाता है, क्योंकि

Ishq h tum se durekitne bhe q na ho

ishq तो इश्क है

💕#इश्क की #उम्र नहीं #होती ना #ही दौर #होता है .... 💕★ #इश्क तो इश्क

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 55

281 : - दण्डनीति के प्रभावी न होने से मंत्रीगण भी बेलगाम होकर अप्रभावी हो

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 516 : - अपराध के अनुरूप ही दंड दें। 516 :

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

आँखों के बिना शरीर || चाणक्य नीति chanakya niti || – भाग 118

586 : - सज्जन थोड़े-से उपकार के बदले बड़ा उपकार करने की इच्छा से सोता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 12

chanakya video 56 : - जिस शहर में विद्वान, बुद्धिमान, ज्ञानी पुरुष नहीं रहते, जहां