चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147
731 : - तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है।
731 : - tattvon ka gyaan hee shaastr ka prayojan hai.
732 : - कर्म करने से ही तत्त्वज्ञान को समझा जा सकता है।
732 : - karm karane se hee tattvagyaan ko samajha ja sakata hai.
733 : - धर्म से भी बड़ा व्यवहार है।
733 : - dharm se bhee bada vyavahaar hai.
734 : - आत्मा व्यवहार की साक्षी है।
734 : - aatma vyavahaar kee saakshee hai.
735 : - आत्मा तो सभी की साक्षी है।
735 : - aatma to sabhee kee saakshee hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

पराया व्यक्ति यदि हितैषी हो तो || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 90

446 : - स्वजनों की सीमा का अतिक्रमण न करें। 446 : - svajanon kee

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 22

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 22

106 : - विषहीन सर्प को भी अपनी रक्षा के लिए फन फैलाना पड़ता है.

क्रोध के बारे में चाणक्य क्या कहते हैं  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 106

क्रोध के बारे में चाणक्य क्या कहते हैं || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 106

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 526 : - पुत्र को पिता के अनुकूल आचरण करना चाहिए।

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 5

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 5

chanakya video 21 :- अतिथि का सत्कार न करने वाला, थके-हारे को आश्रय न देने

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 3

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 3

chanakya video 11 : - एक गुण सैकड़ों अवगुणों को छिपा लेता है. जिस प्रकार

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 46

226 : - सुख और दुःख में समान रूप से सहायक होना चाहिए। 227 :