चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 147
731 : - तत्त्वों का ज्ञान ही शास्त्र का प्रयोजन है।
731 : - tattvon ka gyaan hee shaastr ka prayojan hai.
732 : - कर्म करने से ही तत्त्वज्ञान को समझा जा सकता है।
732 : - karm karane se hee tattvagyaan ko samajha ja sakata hai.
733 : - धर्म से भी बड़ा व्यवहार है।
733 : - dharm se bhee bada vyavahaar hai.
734 : - आत्मा व्यवहार की साक्षी है।
734 : - aatma vyavahaar kee saakshee hai.
735 : - आत्मा तो सभी की साक्षी है।
735 : - aatma to sabhee kee saakshee hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

भोजन के बारे में क्या कहते है चाणक्य  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 84

भोजन के बारे में क्या कहते है चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 84

Chanakya Neeti In Hindi 416 : - यदि न खाने योग्य भोजन से पेट में

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

जीवन व्यर्थ हो जाता है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 72

Chanakya Neeti In Hindi 356 : - दूसरे के धन पर भेदभाव रखना स्वार्थ है।

विचार न करके कार्ये || चाणक्य नीति chanakya niti || 67

विचार न करके कार्ये || चाणक्य नीति chanakya niti || 67

331 : - जो अपने कर्तव्यों से बचते है, वे अपने आश्रितों परिजनों का भरण-पोषण

चाणक्य के अनमोल विचार –  Chanakya Niti Motivation भाग 132

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 132

656 : - शास्त्रों के न जानने पर श्रेष्ठ पुरुषों के आचरणों के अनुसार आचरण

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 41

201 : - आग में आग नहीं डालनी चाहिए। अर्थात क्रोधी व्यक्ति को अधिक क्रोध

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

जीवन के समान है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 91

chanakya niti for success in life in hindi 451 : - धनवान व्यक्ति का सारा