चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 146

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 146
726 : - क्षमा करने वाला अपने सारे काम आसानी से कर लेता है।
726 : - kshama karane vaala apane saare kaam aasaanee se kar leta hai.
727 : - साहसी लोगों को अपना कर्तव्य प्रिय होता है।
727 : - saahasee logon ko apana kartavy priy hota hai.
728 : - दोपहर बाद के कार्य को सुबह ही कर लें।
728 : - dopahar baad ke kaary ko subah hee kar len.
729 : - धर्म को व्यावहारिक होना चाहिए।
729 : - dharm ko vyaavahaarik hona chaahie.
730 : - लोक चरित्र को समझना सर्वज्ञता कहलाती है।
730 : - lok charitr ko samajhana sarvagyata kahalaatee hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 34

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 34

166 : - आग सिर में स्थापित करने पर भी जलाती है। अर्थात दुष्ट व्यक्ति

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 14

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 14

chanakya video 66 : - जिस प्रकार अकेला चंद्रमा रात कि शोभा बढ़ा देता है,

धन का नाश  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

धन का नाश || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 94

chanakya niti for success in life in hindi 466 : - दूसरे का धन किंचिद्

‪‎मोहब्बत‬ सच्ची करता था मुझसे

‪‎मोहब्बत‬ सच्ची करता था मुझसे

  कभी ना कभी वो मेरे बारे में सोचेगी जरूर ,😘😘🌹🍂🍃 कि हासिल होने की

अशांति उत्पन्न क्यों होती है  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

अशांति उत्पन्न क्यों होती है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

Chanakya Neeti In Hindi 361 : - जो धर्म और अर्थ की वृद्धि नहीं करता

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 63

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 63

311 : - सिद्ध हुए कार्ये का प्रकाशन करना ही उचित कर्तव्य होना चाहिए। 312