चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 143
711 : - असहाय पथिक बनकर मार्ग में न जाएं।
711 : - asahaay pathik banakar maarg mein na jaen.
712 : - पुत्र की प्रशंसा नहीं करनी चाहिए।
712 : - putr kee prashansa nahin karanee chaahie.
713 : - सेवकों को अपने स्वामी का गुणगान करना चाहिए।
713 : - sevakon ko apane svaamee ka gunagaan karana chaahie.
714 : - धार्मिक अनुष्ठानों में स्वामी को ही श्रेय देना चाहिए।
714 : - dhaarmik anushthaanon mein svaamee ko hee shrey dena chaahie.
715 : - राजा की आज्ञा का कभी उल्लंघन न करे।
715 : - raaja kee aagya ka kabhee ullanghan na kare.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 8

चाणक्य के अनमोल विचार || chanakya status video – Part 8

chanakya video 36 : - मनुष्य स्वर्ग का आकांक्षी है, देवता मुक्ति चाहते हैं ,

kya naam doon main

kya naam doon main

kya naam doon main apanee mohabbat ko.. ki ye tera siva kisee aur se hotee

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 6

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 6

chanakya video 26 : - कई तरह कि नेत्र हीनता होती है. कुछ जन्म से

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 34

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 34

166 : - आग सिर में स्थापित करने पर भी जलाती है। अर्थात दुष्ट व्यक्ति

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 59

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 59

291 : - अर्थ कार्य का आधार है। 291 : - arth kaary ka aadhaar

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 30

146 : - चाणक्य कहते हैं कि जिस तरह वेश्या धन के समाप्त होने पर