चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 133
661 : - इन्द्रियों को वश में करना ही तप का सार है।
661 : - indriyon ko vash mein karana hee tap ka saar hai.
662 : - स्त्री के बंधन से छूटना अथवा मोक्ष पाना अत्यंत कठिन है।
662 : - stree ke bandhan se chhootana athava moksh paana atyant kathin hai.
663 : - स्त्री का नाम सभी अशुभ क्षेत्रों से जुड़ा हुआ है।
663 : - stree ka naam sabhee ashubh kshetron se juda hua hai.
664 : - अशुभ कार्य न चाहने वाले स्त्रियों में आसक्त नहीं होते।
664 : - ashubh kaary na chaahane vaale striyon mein aasakt nahin hote.
665 : - तीन वेदों ऋग, यजु व साम को जानने वाला ही यज्ञ के फल को जानता है।
665 : - teen vedon rg, yaju va saam ko jaanane vaala hee yagy ke phal ko jaanata hai.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

161 : - यदि माता दुष्ट है तो उसे भी त्याग देना चाहिए। 162 :

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

किस के अनुसार उत्तर दे चाणक्य || चाणक्य नीति chanakya niti || 104

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 516 : - अपराध के अनुरूप ही दंड दें। 516 :

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

चाणक्य के अनुसार किस पर विश्वास न करें || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 109

chanakya niti for success in life 541 : - वाहनों पर यात्रा करने वाले पैदल

फिर मुलाक़ात होगी

फिर मुलाक़ात होगी

अभी के लिए सो जाओ कल फिर मुलाक़ात होगी , लबो से ना सही तो

Swami Vivekananda Motivational Quotes in Hindi and English

Swami Vivekananda Motivational Quotes in Hindi and English

उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये। Get

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 31

152 : - वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है अर्थात