चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 127

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 127

chanakya niti for motivation

631 : - प्रिय वचन बोलने वाले का कोई शत्रु नहीं होता।
631 : - priy vachan bolane vaale ka koee shatru nahin hota.
632 : - जो मांगता है, उसका कोई गौरव नहीं होता।
632 : - jo maangata hai, usaka koee gaurav nahin hota.
633 : - सौभाग्य ही स्त्री का आभूषण है।
633 : - saubhaagy hee stree ka aabhooshan hai.
634 : - शत्रु की जीविका भी नष्ट नहीं करनी चाहिए।
634 : - shatru kee jeevika bhee nasht nahin karanee chaahie.
635 : - बहुत पुराना नीम का पेड़ होने पर भी उससे सरौता नहीं बन सकता।
635 : - bahut puraana neem ka ped hone par bhee usase sarauta nahin ban sakata.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 56

276 : - कामी पुरुष कोई कार्य नहीं कर सकता। 276 : - kaamee purush

पीपल वृक्ष का पूजन

पीपल वृक्ष का पूजन

मात्र 24 घंटे तक आक्सीजन का सिलिंडर खरीद के सांस ले उसका खर्चा जोड़े फिर

मुझे पाने की दुआँ

मुझे पाने की दुआँ

तू ही मिल जाये मुझे ये ही काफ़ी हैं , मेरी हर साँस ने ये

Happy New Year 2021

Happy New Year 2021

🌹🌹🤝🏻🤝🏻😀🌷🌸💐🌹🌹 Let’s welcome the year which is fresh Let’s welcome the year which is new,

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 25

121 : - अन्न से बढ़कर कोई दान नहीं होता. गायत्री मंत्र सर्वश्रेष्ठ है और

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 33

161 : - यदि माता दुष्ट है तो उसे भी त्याग देना चाहिए। 162 :