चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti Motivation भाग 127

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 127

chanakya niti for motivation

631 : - प्रिय वचन बोलने वाले का कोई शत्रु नहीं होता।
631 : - priy vachan bolane vaale ka koee shatru nahin hota.
632 : - जो मांगता है, उसका कोई गौरव नहीं होता।
632 : - jo maangata hai, usaka koee gaurav nahin hota.
633 : - सौभाग्य ही स्त्री का आभूषण है।
633 : - saubhaagy hee stree ka aabhooshan hai.
634 : - शत्रु की जीविका भी नष्ट नहीं करनी चाहिए।
634 : - shatru kee jeevika bhee nasht nahin karanee chaahie.
635 : - बहुत पुराना नीम का पेड़ होने पर भी उससे सरौता नहीं बन सकता।
635 : - bahut puraana neem ka ped hone par bhee usase sarauta nahin ban sakata.

Also, Read
Swami Vivekananda
Good Morning
Chanakya Niti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

क्रोध करने से पूर्व क्या करना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 108

क्रोध करने से पूर्व क्या करना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 108

chanakya niti for success in life 536 : - बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

चाणक्य के अनमोल विचार || Chaanaky Ke Anamol Vichaar – Part 42

206 : - कल का कार्य आज ही कर ले। 207 : - सुख का

वास्तव में जीते है। | Swami Vivekananda |

वास्तव में जीते है। | swami vivekananda quotes hindi |

यह जीवन अल्पकालीन है, संसार की विलासिता क्षणिक है, लेकिन जो दुसरो के लिए जीते

बददुआओं का असर

बददुआओं का असर

ठुकराया 😏 हमने भी बहुतों को है तेरी 👉 👩 खातिर, तुझसे 👩 फासला भी

उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे || चाणक्य नीति chanakya niti || 66

उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे || चाणक्य नीति chanakya niti || 66

chanakya niti for success in life 326 : - एक उत्कृष्ट बात जो शेर से

विशेषज्ञ व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 96

विशेषज्ञ व्यक्ति || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 96

476 : - लोभी और कंजूस स्वामी से कुछ पाना जुगनू से आग प्राप्त करने