क्रोध करने से पूर्व क्या करना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 108

क्रोध करने से पूर्व क्या करना चाहिए || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 108

chanakya niti for success in life

536 : - बुरे व्यक्ति पर क्रोध करने से पूर्व अपने आप पर ही क्रोध करना चाहिए।
536 : - bure vyakti par krodh karane se poorv apane aap par hee krodh karana chaahie.
537 : - बुद्धिमान व्यक्ति को मुर्ख, मित्र, गुरु और अपने प्रियजनों से विवाद नहीं करना चाहिए।
537 : - buddhimaan vyakti ko murkh, mitr, guru aur apane priyajanon se vivaad nahin karana chaahie.
538 : - ऐश्वर्य पैशाचिकता से अलग नहीं होता।
538 : - aishvary paishaachikata se alag nahin hota.
539 : - स्त्री में गंभीरता न होकर चंचलता होती है।
539 : - stree mein gambheerata na hokar chanchalata hotee hai.
540 : - धनिक को शुभ कर्म करने में अधिक श्रम नहीं करना पड़ता।
540 : - dhanik ko shubh karm karane mein adhik shram nahin karana padata.

chanakya niti for success in life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakay Niti in Hindi भाग 140

696 : - नित्य दूसरे को समभागी बनाए। 696 : - nity doosare ko samabhaagee

चाणक्य के अनुसार कोन उचित (अनुरूप) है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 105

चाणक्य के अनुसार कोन उचित (अनुरूप) है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 105

Chaanaky Ke Anamol Vichaar 521 : - पात्र के अनुरूप दान दें। 521 : -

पुरुष बूढ़ा क्यों हो जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti ||  भाग 97

पुरुष बूढ़ा क्यों हो जाता है। || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 97

481 : - अधिक मैथुन (सेक्स) से पुरुष बूढ़ा हो जाता है। 481 : -

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 138

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 138

686 : - आशा के साथ धैर्य नहीं होता। 686 : - aasha ke saath

अशांति उत्पन्न क्यों होती है  || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

अशांति उत्पन्न क्यों होती है || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 73

Chanakya Neeti In Hindi 361 : - जो धर्म और अर्थ की वृद्धि नहीं करता

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

चाणक्य के अनमोल विचार – Chanakya Niti भाग 137

681 : - सज्जन दुर्जनों में विचरण नही करते। 681 : - sajjan durjanon mein