Chaanaky Nitichanakya niti

पराई स्त्री से सम्भोग || चाणक्य नीति chanakya niti || भाग 116

576 : – एक ही गुरुकुल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का निकट संपर्क ब्रह्मचर्य को नष्ट कर सकता है।
576 : – ek hee gurukul mein padhane vaale chhaatr-chhaatraon ka nikat sampark brahmachary ko nasht kar sakata hai.

577 : – पुत्र प्राप्ति के लिए ही स्त्री का वरण किया जाता है।
577 : – putr praapti ke lie hee stree ka varan kiya jaata hai.

578 : – पराए खेत में बीज न डाले। अर्थात पराई स्त्री से सम्भोग (सेक्स) न करें।
578 : – parae khet mein beej na daale. arthaat paraee stree se sambhog (seks) na karen.

579 : – अपनी दासी को ग्रहण करना स्वयं को दास बना लेना है।
579 : – apanee daasee ko grahan karana svayan ko daas bana lena hai.

580 : – विनाश काल आने पर दवा की बात कोई नहीं सुनता।
580 : – vinaash kaal aane par dava kee baat koee nahin sunata.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker