Chaanaky Nitichanakya nitiLatest

चाणक्य के अनमोल विचार – भाग 151

751 : – ज्ञानी पुरुषों को संसार का भय नहीं होता।
751 : – gyaanee purushon ko sansaar ka bhay nahin hota.

752 : – जन्म-मरण में दुःख ही है।
752 : – janm-maran mein duhkh hee hai.

753 : – व्यक्ति कर्मों से महान बनता है, जन्म से नहीं।
753 : – vyakti karmon se mahaan banata hai, janm se nahin.

754 : – प्रयत्न न करने से कार्य में विघ्न पड़ता है।
754 : – prayatn na karane se kaary mein vighn padata hai.

755 : – यदि किसी का स्वभाव अच्छा है तो उसे किसी और गुण की क्या जरूरत है ? यदि आदमी के पास प्रसिद्धि है तो भला उसे और किसी सिंगार की क्या आवश्यकता है.
755 : – yadi kisee ka svabhaav achchha hai to use kisee aur gun kee kya jaroorat hai ? yadi aadamee ke paas prasiddhi hai to bhala use aur kisee singaar kee kya aavashyakata hai.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker